रोटी या चावल? जानिए वजन कम करने के लिए दोनों में से क्या है बेहतर

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

नई दिल्ली: बात जब भारतीय खाने की हो तो तमाम तरह के पकवान दिमाग में आ जाते हैं. चिकन, शाही पनीर, आलू, हरी सब्ज़ियां, दाल, राजमा इन तमाम खानों की हज़ारों वेराइटी यहां मिलती है. लेकिन खास बात इन्हें खाया सिर्फ दो चीज़ों के साथ जाता है और वो है रोटी और चावल. कार्ब्स और कैलोरीज़ से भरी इन दोनों चीजों को हर भारतीय परिवार में रोज़ाना खाया जाता है.

ऐसे में जिन लोगों को भी अपना वजन कम करना होता है वो रोटी और चावल दोनों को अपनी डाइट से हटा देते हैं. लेकिन इन्हें अपनी डाइट से एकदम हटा देने से शरीर में कमज़ोरी आती है. क्योंकि दोनों ही अपने-अपने गुणों की वजह से हेल्दी डाइट चार्ट को पूरा करते हैं. जहां रोटी से पूरा दिन पेट भरा रहता है वहीं चावल में मौजूद स्टार्च की वजह से वो जल्दी डाइजेस्ट हो जाता है.

1. रोटी ज़्यादा पोषण से भरपूर होती है. लेकिन इसमें सोडियम भी पाया जाता है. हर 120 ग्राम गेंहू के आटे में 190 मिलीग्राम सोडियम होता है. लेकिन चावलों में कोई सोडियम नहीं होता. तो अगर आप अपनी डाइट से सोडियम खत्म करना चाहते हैं तो रोटियां अवॉइड करें.
2. चावल में लोअर डाइटरी फाइबर होता है, जबकि रोटी में प्रोटीन और फाइबर की मात्रा ज़्यादा होती है.

3. रोटी में फाइबर की मात्रा ज़्यादा होने की वजह से यह आपकी छोटी-छोटी भूख को खत्म कर ओवरइटिंग से बचाती है. यानी ये आपको ज़्यादा खाने से रोककर मोटापे से बचाती है.

4. चावल में प्रचूर मात्रा में कैलोरी होती है और इसमें स्टार्च भी अधिक होता है, इसीलिए यह जल्दी पच जाते हैं. इसी वजह से चावल खाने के बाद आपको जल्दी भूख लगती है.

5. रोटी के हर एक निवाले से कैल्शियम, पोटेशियम, आइरन, फॉस्फोरस शरीर में पहुंचता है. हालांकि, चावल में कैल्शियम नहीं होता और इसमें पोटेशियम और फॉस्फोरस भी कम मात्रा में होता है.

6. रोटी पचने में ज़्यादा वक्त लेती हैं इसीलिए यह ब्लड शुगर लेवल नॉर्मल रखने में मदद करती है.

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*