Birthday : सुषमा स्वराज के बारे में वो बातें जो आपको पता नहीं होगी

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

India's Foreign Minister Sushma Swaraj arrives for a flag-raising ceremony with Afghanistan's President Hamid Karzai in Kabul September 10, 2014. Karzai and Swaraj on Wednesday hoisted the largest Afghanistan national flag, which was made in India, during the ceremony and Swaraj pledged to build a park around the flag, according to a government official. REUTERS/Omar Sobhani (AFGHANISTAN - Tags: POLITICS) - RTR45PFR

बुधवार 14 फरवरी को भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 66वां जन्मदिन है। सुषमा स्वराज देश की पहली महिला विदेश मंत्री हैं। उनका जन्म 14 फरवरी 1952 को अंबाला में हुआ था। 1970 में सुषमा स्वराज ने ABVP के साथ राजनीतिक करियर शुरू किया। 1990 में वह पहली बार सांसद बनीं और करीब 6 साल तक राज्यसभा में रहीं। इसके बाद 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री बनीं और बाद में लोकसभा के लिए वो फिर दक्षिण दिल्ली से चुनी गईं और फिर सूचना प्रसारण मंत्रालय के अलावा दूरसंचार मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार भी दिया गया। 1998 में उन्होंने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा देकर तक दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं।

1975 में सुषमा स्वराज की शादी स्वराज कौशल से हुई। कौशल भी 6 साल तक राज्यसभा में सांसद रहे इसके अलावा वो मिजोरम के राज्यपाल भी रह चुके हैं। सुषमा स्वराज औऱ उनके पति स्वराज कौशल का नाम लिमका बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है। लिमका बुक में इस दंपति का नाम सबसे प्रतिष्ठित कपल के रूप में भी दर्ज हो चुका है।

सुषमा स्वराज का नाम लिमका बुक में एक और मामले में दर्ज है। सुषमा स्वराज ट्विटर पर दुनिया की सबसे ज्यादा फॉलो की जाने वाले विदेश मंत्री भी हैं। सुषमा स्वराज का नाम भारतीय इतिहास में सबसे युवा कैबिनेट मंत्री के नाम पर भी दर्ज है। सुषमा ने जनता पार्टी में शामिल होने के बाद मात्र 25 साल में कैबिनेट मंत्री बनी थीं।

सुषमा स्वराज के नाम दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनने का सम्मान भी शामिल है। 1998 में उन्होंने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा देकर दिल्ली की गद्दी संभाली थी। 13 अक्टूबर 1998 से 3 दिसंबर 1998 तक वह दिल्ली की सीएम थीं। सुषमा स्वराज अपनी कार्यशैली से लेकर भाषा शैली के लिए भी जानी जाती हैं। संसद से लेकर संयुक्त राष्ट्र तक में सुषमा ने कई बार ऐसे भाषण दिये हैं जिसके मुरीद विपक्षी दल औऱ आम जनता भी हुई। सुषमा स्वराज को साल 2004 में बेहतरीन सांसद के सम्मान से नवाजा गया। ये सम्मान पाने वाली सुषमा पहली और एकमात्र महिला सांसद हैं।

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*