स्कूल का लापरवाह सिस्टम और मौत की भेंट चढ़ते मासूम

<script async custom-element=”amp-auto-ads”
src=”https://cdn.ampproject.org/v0/amp-auto-ads-0.1.js”>
</script>

गुड़गांव में 7 साल के प्रद्युम्न की हत्या का मामला अब देश की जनता का मामला बन चूका है. वह स्कूल बस कंडक्टर जिसने दुष्कर्म के प्रयास में मासूम को हमेशा हमेशा के लिए मौत की नींद सुला दिया वह अब सलाखों के पीछे लेकिन क्या प्रद्युम्न के माता पिता को इससे संतुष्टि मिलेगी. मृतक बच्चे के परिजनों का गुस्सा और प्रदर्शन अभी भी इसलिए जारी है ताकि फिर से किसी प्रद्युम्न की हत्या न हो. ताकि फिर कोई मासूम स्कूल जाते समय हवस का शिकार नहीं बने. इसके लिए स्कूलों को अपने कुछ मापदंड तय करने होंगे जिससे ऐसे हादसे फिर न हो.

कर्मचारियों का रिकॉर्ड – अक्सर कई स्कूल ऐसे होते है जो कम सैलरी देने के चक्कर में ऐसे कर्मचारियों को रख लेते है जो उस पद के लिए योग्य ही नहीं होते है. यहाँ तक कि उनका पिछले रिकॉर्ड भी खंगाला नहीं जाता है. स्कूल बस या ऑटो वाले अलग अलग माहौल से आते है ऐसे में अंजाम यह होता है कि मासूम प्रद्युम्न जैसे हादसे सामने आते है.

स्टूडेंट से भी ले फीडबैक – स्कूल में हमेशा स्टूडेंट को कोई अहमियत नहीं दी जाती है. स्कूल में एक नियम यह भी होना चाहिए कि स्टूडेंट बड़े हो या बच्चे सभी से स्कूल में काम करने वाले कर्मचारियों का समय समय पर फीडबैक लेना चाहिए फिर चाहे वह पढ़ने वाला टीचर हो या स्कूल बस का ड्राइवर या फिर कंडक्टर.

अपने बच्चे को नजरअंदाज न करे- अपने बच्चे से हर दिन स्कूल में होने वाली एक्टिविटी के बारे में जानकारी ले. अगर आपका बच्चा ऑटो या या बस से स्कूल जाता है और घर पर वह उदास या शांत है तो उसे नज़रअंदाज़ न करे. अपने बच्चे की बातो को सुने और उसे अच्छी व बुरी चीजों से अवगत कराए.

क्या है मामला – गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में कक्षा दूसरी में पढ़ने वाले 7 साल के प्रद्युम्न की उसकी स्कूल बस के कंडक्टरर ने हत्या कर दी. कंडक्टर ने अपना गुनाह कबूलते हुए जो खुलासा किया वह बेहद हैरान करने वाला था. कंडक्टर अशोक ने बताया कि उसने प्रद्युम्न के साथ दुष्कर्म करने की कोशिश लेकिन उसने चिल्लाना शुरू कर दिया. बच्चे को चुप करने के लिए और अपनी करतूत पर पर्दा डालने के लिए उसने गला रेतकर हत्या कर दी. घटना के दूसरे दिन भी गुस्साए अभिभावकों का प्रदर्शन जारी है. अभिभावकों के गुस्से को देखते हुए प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया गया है. मगर सोचने वाली बात यह है कि क्या प्रिंसिपल को निलंबित करने से समस्या का हल होगा.

ये भी पढ़े- 

एक लेडी के आगे बेबस दुनिया का सबसे खूंखार तानाशाह!

एक शर्त और स्टेडियम में न्यूड हो गई यह लड़की

इस दुल्हन को अपने डॉग से प्यार हो गया, हाथों में मेहँदी भी डॉग के नाम की लगा ली… 

जेल में सब्जी ऊगा रहे राम रहीम, लगाना पड़ता है पौछा!

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script>      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({           google_ad_client: "ca-pub-9844829140563964",           enable_page_level_ads: true      }); </script>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*