आखिर क्यों दिनों-दिन बढ़ रही है गर्मी ? गर्मी में इजाफा, तापमान का बढ़ना है खतरनाक

<script async custom-element=”amp-auto-ads”
src=”https://cdn.ampproject.org/v0/amp-auto-ads-0.1.js”>
</script>

आखिर क्यों दिनों-दिन बढ़ रही है गर्मी ?
गर्मी में इजाफा, तापमान का बढ़ना है खतरनाक

ये है न्यूज़ ऑफ़ माय इंडिया !!

कुछ शहरों के मापे गए अधिकतम तापमान :

?लखनऊ – 47 डिग्री
?दिल्ली – 47 डिग्री
?आगरा – 45 डिग्री
?नागपुर – 45 डिग्री
?कोटा – 48 डिग्री
?हैदराबाद – 45 डिग्री
?पुणे – 42 डिग्री
?अहमदाबाद – 46 डिग्री
?मुम्बई – 42 डिग्री
?नाशिक – 40 डिग्री
?बैंगलोर – 40 डिग्री
?चेन्नई – 45 डिग्री
आने वाले साल में इन शहरो का तापमान 50 डिग्री पार कर जायेगा । यहाँ तक कि AC और पंखे भी आपको इस तापमान से नही बचा पाएंगे।

*इतनी गर्मी क्यों ??*

पिछले 10 सालों में सड़कों तथा हाईवे चौड़ीकरण के लिए 10 करोड़ से भी ज्यादा पेड़ काटे जा चुके है

जिसके मुकाबले सरकार 1 लाख पेड़ भी नही लगा पायी है ।

*भारत को ठंडा कैसे किया जाए ??*

पेड़ लगाने के लिए सरकार की प्रतीक्षा न करे

बीज बोने या पेड़ लगाने के लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च नही करने पड़ेंगे

आप कुछ पेड़ो के बीज इकट्ठा कर लीजिये । जैसे :- शतावरी, बेल, पीपल, आम, जामुन, नीम, करंज इत्यादि ।

फिर किसी खुले जगह पर या सड़को के किनारे पर , गार्डनों में , हाईवे के किनारे पर और अपने घरों , मोहल्लों में दो से तीन इंच का गड्ढा खोदिये।

बीजो को मिट्टी के साथ उन गड्ढो में डाल दीजिए तथा गर्मी में हर दूसरे दिन उसे पानी देते रहिये ।

बरसात में आपको पानी देने की भी जरूरत नही पड़ेगी।

पन्द्रह से तीस दिनों में वहाँ एक छोटा सा पौधा उगता हुआ आपको दिखाई देगा।

कृप्या उसका परिपोषण करे तथा सुनिश्चित करे कि वो पौधे बड़े होकर पेड़ का रूप ले ले ।

चलिये इसे एक राष्ट्रीय आंदोलन का रूप देते हुए पूरे देश में दस करोड़ पेड़ लगाते है ।

हमे तापमान 50 डिग्री पार करने से रोकना होगा। आज ही अपने परिवार को और अन्य रिश्तेदारों को पौधरोपण के लिए प्रेरित करें….

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script>      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({           google_ad_client: "ca-pub-9844829140563964",           enable_page_level_ads: true      }); </script>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*