मीटिंग से भी बेटी के मैथ के सवालों का जवाब देते थे मुकेश अंबानी

<script async custom-element=”amp-auto-ads”
src=”https://cdn.ampproject.org/v0/amp-auto-ads-0.1.js”>
</script>

रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन और मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2018 में अपनी निजी जिंदगी को लेकर खुलकर बातें की थी. र‍िलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी आज 61 साल के हो गए हैं. मुकेश अंबानी अपने परिवार के बेहद करीब हैं. दुनिया के सबसे अमीर शख्‍सियतों में शुमार होने के बावजूद वे अपने बच्‍चों का ख्‍याल रखना नहीं भूलते.

वहीं मुकेश अंबानी का मानना है कि युवाओं के लिए आज सबसे बेहतरीन मौका है. क्योंकि अगले 20 साल भारत के हैं. यहां के युवा अपनी उन्नति के साथ-साथ भारत को वहां पहुंचा सकते हैं जहां इस देश को होना चाहिए.

एक किस्से को याद करते हुए नीता अंबानी ने कहा कि वो बच्चों को पढ़ाते थे और एक बार उन्होंने बच्चों को कह दिया था कि ‘आज मम्मी घर पर नहीं है, तो आप स्कूल से बंक मार सकते हैं.’

नीता अंबानी ने यह साफ किया कि एक बार मुकेश अंबानी बोर्ड मीटिंग में भी अपने मोबाइल से अपनी बेटी ईशा अंबानी की मैथ प्रॉब्लम को सॉल्व कर रहे थे. नीता अंबानी ने कॉन्क्लेव के ‘द ग्रेट इक्वेलाइजर: स्पोर्ट्स एंड एजुकेशन फॉर ऑल’ सेशन में बताया कि जब वो किसी काम को लेकर व्यस्त रहती थीं, तो मुकेश अंबानी जल्दी घर चले जाते थे और वो बच्चों का ख्याल रखते थे.

उन्होंने अपने पति मुकेश अंबानी और अपने बच्चों से जुड़ी कई बातों का जवाब दिया था. इस दौरान उनसे सवाल पूछा गया कि क्या मुकेश अंबानी बोर्ड मीटिंग से अपनी बेटी की मैथ प्रॉब्लम सॉल्व कर रहे थे? तो उन्होंने इस बात की पुष्टि की. साथ ही उन्होंने कई और बातों का भी जिक्र किया.

जब मुकेश अंबानी से उनके पसंदीदा खाने के बारे में पूछा गया. तो गुजराती अंबानी ने साउथ इंडियन खाने का नाम लिया. उसमें भी उन्हें इडली सांभर सबसे ज्यादा पसंद है. इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2017 में पहुंचे मुकेश अंबानी ने सीनियर जर्नलिस्ट राजदीप सरदेसाई से अपनी जिंदगी के कई पहलुओं के बारे में बात की थी. मुकेश से जब पूछा गया कि उन्हें इतना काम करने के लिए ताकत कहां से मिलती है. तो उन्होंने कहा कि उनके खुद के बच्चे 24-25 साल के हैं. वो, उनके दोस्त और जो रिलायंस में 30 साल से कम उम्र के हैं. उनके जो भारत के लिए एसपिरेशंस और एंबिशन्स हैं. वो सोच कर उनकी ताकत हर दिन डबल या ट्रिपल हो जाती है.

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script>      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({           google_ad_client: "ca-pub-9844829140563964",           enable_page_level_ads: true      }); </script>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*