मिस्त्री का काम कर रहे है लालू के बेटे तेजप्रताप

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले मामले में रांची के बिरसा मुंडा जेल में सजा काट रहे हैं. लेकिन उनके बेटे तेज प्रताप यादव आज कल काफी चर्चा में हैं. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप सिंह की तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं. कुछ दिनों पहले वो ‘कृष्ण’ के रूप में नजर आए थे. अब वो राजमिस्त्री का काम करते नजर आ रहे हैं. तेज प्रताप यादव ने हालही में ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की हैं. जिसमें वो ब्रांडेड कपड़े और जूते पहनकर राजमिस्त्री का काम कर रहे हैं. वहीं उनके साथ दो मजदूर उनके साथ काम करते नजर आ रहे हैं. वो मजदूरों की मदद करते नजर आ रहे हैं.


तेज प्रताप बालू-सीमेंट के मसाले को ईंट की जुड़ाई कर दिख रहे हैं. फोटो पोस्ट करने के बाद उन्होंने लिखा- वर्ण व्यवस्था ने भारतीय मानसिकता में काम को छोटा या बड़ा बना दिया है. जिस कर्म से सहायता, सहयोग या सृजन हो वह काम छोटा कैसे? कौशल विकास के नाम पर सरकारें योजनाएं तो खूब बनाती हैं, पर अवसर के बिना युवा बेरोजगार ही रह जाते हैं. हर हाथ हुनर, और हर हुनर को रोजगार- यही देश के युवाओं को सही मार्ग पर रखेगा. श्रमिक समाज का महत्वपूर्ण अंग है. राष्ट्र निर्माण, विकास एवं अर्थव्यवस्था में श्रमिकों का महत्वपूर्ण योगदान होता है. देश की विकसित अर्थव्यवस्था श्रमिकों की अच्छी स्थति पर निर्भर करती है. लेकिन केन्द्र व राज्य सरकारों की योजनाओं में श्रमिकों की महता को नजरअंदाज कर दिया जाता है.

कुछ महीनों पहले तेज प्रताप ‘कृष्ण’ रूप में नजर आए थे. जिसमें वो मीडिया वालों के लिए बांसुरी बजा रहे थे. इससे पहले भी पिछले महीने तेजप्रताप मथुरा गए थे और वहां उन्होंने कृष्ण भक्ति पर लोगों का खूब मनोरंजन किया था. यही नहीं एक बार वो बावर्ची के रूप में जलेबियां भी छानते नजर आए थे. तेज प्रताप के कृष्ण अवतार को देखते हुए प्रधानमंत्री ने उन्हें कन्हैया कहकर संबोधित किया था.

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*