कठुआ रेप: पीड़िता के पिता बोले- बच्ची से दरिंदगी पर न करें राजनीति

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में इसी साल जनवरी में आठ साल की बच्ची से दरिंदगी की हद पार की गई. बच्ची से गैंगरेप और हत्या के चार महीने बाद पुलिस ने आठ आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है. इस मामले में आए दिन नए खुलासे हो रहे हैं. वहीं, पूरे मामले को सियासी रंग दिए जाने की कोशिश भी हो रही है. इस बीच बच्ची के पिता का बयान आया है. बच्ची के पिता का कहना है, “मेरी बेटी महज़ आठ साल की थी. वो हिंदू-मुस्लिम नहीं जानती थी. जो आज मेरी बेटी के साथ हुआ, वो कल किसी दूसरे की बेटी के साथ भी हो सकता है. इसलिए इस मामले में राजनीति न करें.”

घटना के कुछ दिन पहले पीड़ित परिवार के रिश्तेदार के यहां कोई फंक्शन था. पीड़िता के पिता ने अपने सभी बच्चों के लिए नए कपड़े सिलवाए थे. जब दर्जी के यहां से नए कपड़े बनकर आए, तो उसे पहनने के लिए उनकी बेटी इस दुनिया में नहीं थी.

उस ‘काले दिन’ को याद करते हुए बच्ची के 50 साल के पिता सिहर जाते हैं. उन्होंने कहा- “जब लोगों ने बताया कि मेरी बेटी के साथ रेप हुआ है. मेरा शरीर सुन्न पड़ गया. मुझे कुछ भी एहसास नहीं हो रहा था. लगा जैसे सब खत्म हो गया. सबकुछ बर्बाद हो गई.”

कठुआ मामले में सीबीआई जांच के खिलाफ 4 मार्च को हिंदू एकता मंच के सदस्यों ने विरोध प्रदर्शन किया था. इसपर पीड़िता के पिता ने कहा, “वे लोग एक बच्ची से रेप और हत्या के आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं. इससे बुरा और क्या हो सकता है?” बता दें कि हिंदू एकता मंच की इस रैली में बीजेपी के मंत्री चौधरी लाल सिंह और चंदर प्रकाश गंगा भी मौजूद थे.

पीड़िता के पिता का ये आरोप भी है कि ये वारदात सोची-समझी साजिश के तहत हुई. जिसकी तैयारी कई महीने पहले कर ली गई थी. उनके मुताबिक, “हमारा समुदाय हमेशा से सॉफ्ट टारगेट रहा है. हमें बिना किसी कारण के पहले भी परेशान किया जाता रहा है. लेकिन, कभी नहीं सोचा था कि ऐसा कुछ होगा. आज मेरी बेटी के साथ वो सब हुआ. हो सकता है कि कल किसी दूसरे की बेटी के साथ वैसा हो.”

क्या कहती है चार्जशीट?
क्राइम ब्रांच द्वारा दायर की गई चार्जशीट में कहा गया है कि पूर्व राजस्व अधिकारी संजी राम ने पुलिसकर्मियों को मामला दबाने के लिए 1.5 लाख रुपये की रिश्वत भी दी. इतना ही नहीं मामले को रफा दफा करने के लिए बीजेपी के विधायकों और वरिष्ठ मंत्रियों के अलावा महबूबा मुफ्ती सरकार पर दबाव डाला गया.

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*