जाती ही नहीं बल्कि मजहब की सीमाओं को भी तोड़ता है छठपर्व, कल्पना पटवारी का यह गीत रोंगटे खड़े कर देगा

<script async custom-element=”amp-auto-ads”
src=”https://cdn.ampproject.org/v0/amp-auto-ads-0.1.js”>
</script>

!!ये है न्यूज़ ऑफ़ माय इंडिया!!

नई दिल्ली: आज से चार दिवसीय छठ पर्व की शुरुआत हो गई है. बार और झारखंड में बड़े पैमाने पर इस त्यौहार को मनाया जाता है. वैसे तो यह हिन्दुओ का त्यौहार लेकिन बिहार के मुस्लिम समुदाय के लोग भी इस त्यौहार को मनाते है. मुस्लिम बहने अपने बेटो की लम्बी उम्र के लिए छठी मैय्या का विधिवत रूप से छठ की पूजा करती हैं. वही इस मौके पर भोजपुरी क्वीन के नाम से प्रसिद्ध गायिका कल्पना पटवारी ने म्यूजिक वी़डियो लांच कर छठ के प्रति मुसलिम परिवारों की आस्था को दर्शाने की कोशिश की है. मुस्लिम परिवार किस तरह वर्षों से इस परंपरा को निभा रहे हैं, इसे म्यूजिक वीडियो में दिखाया गया है और यह वीडियो यूट्यूब पर खूब वायरल हो रहा है.

इस वीडियो में कल्पना की आवाज भक्तिमय माहौल तैयार करती है, जिसे देख आपको एहसास होगा कि छठ पर्व सिर्फ जाति ही नहीं बल्कि मजहब की सीमाओं को भी तोड़ता है. वीडियो में एक मुसलिम परिवार को छठ के दौरान होने वाले तमाम रीति-रिवाज को निभाते दिखाया गया है.

कल्पना पटवारी ने लिखा है, “पिछले साल तक मुझे पता नहीं था कि महात्मा गांधी का सत्याग्रह आंदोलन बिहार की पावन धरती चम्पारण से शुरू हुआ था. यह बात पता लगने पर मैंने सांगीतिक श्रद्धांजलि के रूप में चम्पारण सत्याग्रह नामक ऑडियो-विजुअल तैयार करना जरूरी समझा…महज दो महीने पहले प्रख्यात निर्देशिका और मेरी प्यारी सहेली श्रुति वर्मा से मुझे पता लगा कि बिहार में कई वर्षों से सिर्फ हिन्दू ही नहीं बल्कि मुसलमान भी छठ व्रत करते हैं. यह सुनकर मैं हैरान रह गई.” वायरल सांग ‘बहि गईले बाढ़वा में घरवा तऽ कईसे छठ करब हो!!’ को 21 अक्टूबर को रिलीज किया गया था, और इसे यूटयूब पर खूब पसंद किया जा रहा है.

<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script>      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({           google_ad_client: "ca-pub-9844829140563964",           enable_page_level_ads: true      }); </script>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*