जिद्दी बच्चे को समझदार बनाना है तो अपनाएं ये 5 तरीके!

<script async custom-element=”amp-auto-ads”
src=”https://cdn.ampproject.org/v0/amp-auto-ads-0.1.js”>
</script>

जिद्दी बच्चों को संभालना कई पैरेंट्स के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन चुकी है. बच्चों को नहलाने से लेकर, खाना खिलाने, सोने तक हर बात पर बच्चों को समझाने से मुश्किल काम औऱ कोई नहीं रह जाता है. बच्चों की परवरिश में पैरेंट्स की गलतियां दिन पर दिन और भारी पड़ती चली जाती हैं औऱ बच्चा पूरी तरह से नियंत्रण से बाहर निकल जाता है.

जिद्दी बच्चों को संभालने का सबसे कारगर तरीका है कि आप उनके बुरे बर्ताव पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया ना दें जबकि उनके अच्छे व्यवहार पर हमेशा तारीफ करें. मनोवैज्ञानिकों और पैरेंटिंग एक्सपर्ट्स से जानिए कैसे जिद्दी बच्चों की परवरिश करें कि वे एक समझदार बच्चे बनें…

1-उन्हें सुनें, बहस ना करें-अगर आप चाहते हैं कि आपका जिद्दी बच्चा आपको सुने तो इसके लिए आपको खुद उनकी बात ध्यान से सुननी होगी. मजबूत इच्छाशक्ति वाले बच्चों की राय भी बहुत मजबूत होती है और वे कई बार बहस करने लगते हैं. अगर आप उनकी बात नहीं सुनेंगे तो वे और ज्यादा जिद्दी हो जाएंगे.

 2-बच्चों के साथ जबर्दस्ती बिल्कुल ना करें-जब आप अपने बच्चों के साथ किसी भी चीज को लेकर जबर्दस्ती करते हैं तो वे स्वभाव से विद्रोही होते चले जाते हैं. तत्कालिक तौर पर तो कई बार जबर्दस्ती से आपको समाधान तो मिल जाता है लेकिन आगे के लिए ये खतरनाक होता चला जाता है. बच्चों से जबरन कुछ करवाने से वे वही कुछ करने लगते हैं जिनसे उन्हें मना किया जाता है. आप अपने बच्चों से कनेक्ट होने की कोशिश करें.

3-उन्हें विकल्प दीजिए- बच्चों का अपना दिमाग होता है और वे हमेशा वो करना पसंद नहीं करते हैं जो उन्हें कहा जाता है. अगर आप अपने 4 साल के बच्चे को कहेंगी कि वह 9 बजे से पहले बिस्तर में चला जाए तो इसमें कोई शक नहीं है कि आपको इसका जवाब एक बड़ा सा ना मिलेगा. ऐसा आदेश देने के बजाए आप उससे पूछें कि वो सोते समय कौन सी स्टोरीज सुनना पसंद करेगी/करेगा. बच्चों को आदेश ना दें बल्कि उन्हें सुझाव और विकल्प दें. इसके बाद भी आपका बच्चा ना मानें और कहे कि मैं सोने नहीं जाऊंगा तो भी अपना धैर्य ना खोएं. आप उसे कह सकती हैं कि ये तो ऑप्शन उसे दिया ही नहीं गया था. अपनी बात को कई बार कहें लेकिन बिना आपा खोए. आपका बच्चा जल्द ही अपनी जिद छोड़ देगा.

4-शांत रहें-अगर आप हर बात पर अपने बच्चे पर चिल्लाएंगी तो शायद आपका बच्चा आपके चीखने को जुबानी लड़ाई का निमंत्रण समझने लगे. इससे आपका बच्चा अपनी तहजीब और भूलता चला जाएगा.
5-बच्चों का सम्मान करें-अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा आपका और आपके फैसलों का सम्मान करे तो आपको भी उनका सम्मान करना होगा.
<script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js"></script> <script>      (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({           google_ad_client: "ca-pub-9844829140563964",           enable_page_level_ads: true      }); </script>

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*