गर्मी का असर हो जाएगा बेअसर, ऐसे रहें ठंडा-ठंडा कूल-कूल

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

गर्मी का असर हो जाएगा बेअसर, ऐसे रहें ठंडा-ठंडा कूल-कूल

ये है न्यूज़ ऑफ माय इंडिया…

हेल्थ डेस्क। इन दिनों गर्मी से सभी परेशान हैं। सूरज की तपन के आगे सारे उपाय बेकार हो जाते है। ऐसे में इस गर्मी को बेअसर कैसे करें हर कोई यही उपाय ढूंढ रहा है। प्रकृति ने हमें कई ऐसे उपहार दिए हैं जिससे गर्मी को बेअसर कर सकते हैं।

  • गर्मियों में नारियल का पानी अमृत का काम करता है। यह पित्तशामक, स्वादिष्ट, स्निग्ध और ताजगी प्रदान करनेवाला है। एक तरफ यह आपकी प्यास को शांत करता है तो वहीं गर्मी से भी छूटकारा दिलाता है।
  • गर्मी में लू लगने पर नारियल पानी के साथ काला जीरा पीस कर शरीर पर लेप लगाने से भी लाभ होता है।
  • प्रतिदिन नारियल खाने व नारियल पानी पीने से शारीरिक शक्ति का विकास होता है।
  • मूत्र में जलन होने पर पीसा हुआ हरा धनिया और मिश्री को नारियल पानी में मिला के पीने से जलन दूर हो जाती है।

  • गर्मी में खीरा भी शरीर को शीतलता प्रदान करता है। इसमें बड़ी मात्रा में पानी और खनिज तत्त्व पाये जाते हैं। इसके सेवन से शरीर में खनिज तत्त्वों का संतुलन बना रहता हैं।
  • खीरा मूत्र की जलन शांत करता है और लीवर के लिए भी लाभकारी है।
  • खीरा भूख बढाने के साथ ही आँतों को भी सक्रिय करता हैं।
  • अधिक पढने–लिखने, चित्रकला, संगणक व सिलाई का काम करने से आँखों में थकावट होने पर खीरे के दुकड़े काटकर आँखों पर रखें। इससे आंखों को आराम मिलता है तथा थकावट दूर होती है।

  • नींबू और खीरे का रस मिलाकर लगाने से धूप से झुलसी हुई त्वचा ठीक होती है।

  • तरबूज गर्मी में प्यास की अधिकता से मुक्ति दिलाता है। इसके सेवन से शरीर में लू का प्रकोप कम होता है और बेचैनी नहीं होती है।
  • तरबूज के रस में सेंधा नमक और नींबू का रस मिलाकर पीने से लू नहीं लगती।
  • गर्मी के प्रकोप से मूत्रावरोध होने पर तरबूज का रस पिलाने से मूत्र शीघ्र निष्कासित होता है।
  • तरबूज के छोटे–छोटे टुकड़ों पर थोडा–सा जीरा चूर्ण और मिश्री डाल के सेवन करने से शरीर की गर्मी दूर होती है।
  • धनिया गर्मी में अधिक प्यास के प्रकोप को शांत करता है।

  • 10 ग्राम सूखा धनिया और 5 ग्राम आँवला चूर्ण रात को मिटटी के बर्तन में 1 गिलास पानी में भिगो दें। सुबह मसलकर मिश्री मिला कर छान के पियें। यह गर्मी के कारण होनेवाले सिरदर्द व मूँह के छालों में लाभदायक हैं।
  • धनिया पीसकर सिर पर लेप करने से भी आशातीत लाभ होगा। इससे पेशाब की जलन, गर्मी के कारण चक्कर आना तथा उलटी होना आदि समस्याएँ दूर होती हैं।

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*