नए साल में बड़ी राहत, कम हुए गैस सिलेंडर के दाम

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

नई दिल्ली : नए साल पर तेल कंपनियों की ओर से रसोई गैस उपभोक्ताओं को थोड़ी राहत दी गई है। रसोई गैस सिलिंडर की कीमत में साढ़े चार रुपए की कमी आई है। एक जनवरी से नई दर प्रभावी होगी। सरकार ने 14.2 किलो वाले गैर रियायती सिलेंडर की कीमत 822.50 रुपए से घटाकर 818.00 रुपए कर दी है। इसी तरह 19 किलो वाले कॉमर्शियल सिलेंडर की कीमत भी 1451 रुपए से घटकर 1447 रुपए तक हो गई हैं।

इस तरह कामर्शियल सिलेंडर की कीमतों में 4 रपुए और घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत में साढ़े चार रुपए तक की कमी आई है। जनवरी में प्रति सिलेंडर कैश सब्सिडी 320 रुपए मिलेगी। दिसंबर 2017 में यह राशि 325.61 रुपए थी। इस तरह सब्सिडी में 4.61 रुपए की कमी आई है। घरेलू गैस की कीमतों में कीमत कम होने का फायदा केवल उन्हीं उपभोक्ताओं को मिलेगा जो सब्सिडी नहीं लेते। इससे पहले इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (IOCL) ने अपने उपभोक्ताओं को राहत देते हुए फेसबुक और ट्विटर के जरिए बुकिंग की सुविधा शुरू की थी।

अब आप फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से भी एलपीजी गैस सिलिंडर की बुकिंग कर सकते हैं। फिलहाल यह सुविधा इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) की ओर से शुरू की गयी है। यह जानकारी आईओसी ऑयल के अधिकारिक पेज के माध्यम से सामने आयी है। इतना ही नहीं, फेसबुक पर सिलिंडर बुक करने के साथ ही आप अपनी तीन बुकिंग हिस्ट्री भी देख सकेंगे।आईओसी की तरफ से शुरू की गयी इस सुविधा का लाभ राज्य के लगभग 30 लाख उपभोक्ताओं को मिलेगा।

एेसे कीजिए फेसबुक-ट्विटर से बुकिंग
सबसे पहले आप अपना फेसबुक अकाउंट लॉगिन करें। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के अधिकारिक पेज https://www.facebook.com/IndianOilCorpLimited पर जाए। टॉप राइट साइड में आपको बुक नाउ का बटन दिखाई देगा। इस बटन पर क्लिक करें। एक नया वेब पेज खुलेगा। कंटिन्यू बटन पर क्लिक करें। एलपीजी आईडी मांगी जाएगी। बुक नाउ का ऑप्शन मिलेगा। बुकिंग के बाद मोबाइल नंबर पर कंफर्मेशन मिल जाएगा

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*