बहू को कमरे में कर दिया 3 दिन तक बंद ? देखिये, क्या हुआ फिर….

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

बहू को कमरे में कर दिया 3 दिन तक बंद ?
देखिये, क्या हुआ फिर….

मिहोना, पति की मौत के बाद बहू को आसरा देने के बजाए ससुराल वाले उसे प्रताड़ित करने लगे, ताकि वह जमीन जायदाद में हिस्सा नहीं मांगे। ऐसा मामला कस्बे के वार्ड 15 में सामने आया है। ससुराल वालों ने बहू को 3 दिन कमरे में कैद रखा। प्रसाधन के लिए कमरे से बाहर निकली बहू ने पड़ोस में रहने वाली महिला को आपबीती सुनाई और गुजरात में रह रहे भाई को फोन करवाया। भाई के आने पर ससुराल में बहन को कमरे से बाहर निकालाया गया। पीड़ित महिला ने अपने सास-ससुर और देवर-देवरानी के खिलाफ शिकायती आवेदन दिया है। पुलिस आरोपों की जांच कर रही है।

ससुराल वालों पर यह लगाए आरोप
मिहोना के वार्ड 15 निवासी प्रियंका गौड़ पत्नी सचिन गौड़ ने थाने में दिए आवेदन में बताया कि 6 जून 2013 को माधौगढ़ में सामूहिक विवाह समारोह में उनकी शादी हुई थी। पति सचिन की 15 मार्च 2017 को इंदरगढ़ दतिया में हुए सड़क हादसे में मौत हो गई। थाने मे दिए आवेदन में प्रियंका ने आरोप लगाया कि पति की मौत के बाद ससुराल में उसे प्रताड़ित किया जाने लगा। प्रियंका ने कहा उसे हाल में 3 दिन तक कमरे में बंद रखा गया।
प्रसाधन के लिए कमरे से बाहर निकाला गया तो उसने पड़ोस में रहने वाली महिला से मदद ली और कहा कि गुजरात में रहने वाले भाई सचित उर्फ जितेंद्र कुमार को फोन कर दे। बहन की खबर मिलने पर भाई 6 अगस्त को मिहोना पहुंचा। प्रियंका का कहना है भाई के आने पर उसे कमरे से बाहर निकाला गया।
प्रियंका का 2 साल का बेटा आर्यन है। पुलिस को दिए आवेदन में प्रियंका ने ससुर हेतराम उर्फ यज्ञकुमार गौड़, सास कस्तूरी देवी, देवर रवि कुमार और देवरानी दीपा पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। पुलिस अब प्रियंका के आवेदन की जांच कर रही है। मिहोना थाना प्रभारी राघवेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि आवेदन की जांच के बाद जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*