आखिर क्यों BCCI दिव्यांग बॉल बॉय को बाउंड्री से हटा रहा है ?

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

!!ये है न्यूज़ ऑफ़ माय इंडिया!!

नई दिल्ली। भारत के मैच के दौरान बाउंड्री के बाहर अपने गेंद देने वाले एक दिव्यांग शख्स को अक्सर देखा होगा. धर्मवीर नाम का यह दिव्यांग शख्स जो टीम इंडिया का लाडला और 12वां फील्डर के रूप में जाना जाता है अब वह आपको बाउंड्री के बाहर नजर नहीं आएंगे. धर्मवीर को टीम इंडिया का 12वां फील्डर इसलिए कहा जाता है कि क्योकि वह सीमा रेखा की पार जाने वाली गेंद को उठाकर खिलाडी तक पहुंचाते है. लेकिन अब BCCI अब धर्मवीर पाल को बाउंड्री से अलग करना चाहती है. बोर्ड का कहना है कि वो स्टैंड्स में बैठकर खेल देख सकते है, लेकिन बाउंड्री लाइन पर खड़े नहीं हो सकते.

यह बात BCCI ने तब कही, जब सोशल मीडिया पर पोलियो पीड़ित व्यक्ति की सेवाओं का उपयोग करने को लेकर आलोचनाएं और ई-मेल होने लगी. इसके बाद यह कदम उठाते हुए BCCI ने अपनी सभी स्टेज एसोसिएशनों को एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि बॉल-बॉय के रूप में ऐसे व्यक्ति का उपयोग ना करें.

24 साल के दिव्यांग धर्मवीर ने कहा कि क्रिकेट मेरे जीने का कारण है. मुझे बचपन से क्रिकेट का शौक है. उन्होंने कहा कि एक पैर से दिव्यांग होने के बावजूद भी क्रिकेट को लेकर मेरा जज्बा कम नहीं हुआ है. धर्मवीर मध्य प्रदेश में हैंडिकैप्ड टीम का कैप्टन हैं.

बता दे कि धर्मवीर मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के रहने वाले हैं. क्रिकेट के प्रति इनकी जबरदस्त आकर्षण है. इसी कारण टीम का पूरा सदस्य दोनों पैरों से दिव्यांग धर्मवीर की मदद करने से पीछे नहीं हटता है.

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*