65 साल कि अटल जी से मित्रता से सौभाग्यशाली मानते हैं अडवाणी

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

नई दिल्ली. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद पहली बार उनके साथ 65 सालों तक राजनीतिक सफर तय करने वाले लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि कभी ऐसी कल्पना नहीं की थी कि उनके बगैर किसी सभा को संबोधित करना पड़ेगा.

सर्वदलीय प्रार्थना सभा को सम्भोधित करते हुए लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, ‘मैंने दशकों तक एक साथ काफी सभाएं की, लेकिन आज जिस तरह की सभा का आयोजन किया गया है, उसकी कल्पना कभी नहीं की थी.’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने ऐसा कभी नहीं सोचा था कि अटलजी के बगैर ऐसी सभा संबोधित करनी पड़ेगी.’

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता आडवाणी ने कहा, ‘जब अटल जी कहा करते थे कि मैं कितने दिन रहूंगा, तो मुझे तकलीफ होती थी. अटल जी के साथ मेरी मित्रता 65 साल पुरानी है. मैं खुद को सौभाग्यशाली मानता हूं कि मेरी अटल जी से मित्रता 65 सालों से थी.’

अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल में उनके डिप्टी रहे आडवाणी से उम्मीद की जा रही थी कि इस शोकसभा में वह वाजपेयी से जुड़े कुछ अहम संस्मरणों का जिक्र करेंगे और वर्तमान हालात से तुलना भी कर सकते हैं. लेकिन उन्होंने अपना संक्षिप्त भाषण वाजपेयी पर ही केंद्रित रखा.

  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({
    google_ad_client: “ca-pub-9844829140563964”,
    enable_page_level_ads: true
  });

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*